Sunday, December 4, 2011

मगरमच्छ से मुकाबला..

दिल्ली के चिड़ियाघर से मैं और मम्मा एक मगरमच्छ खरीद लाये.. बड़ा सा.. मुझसे भी बड़ा.. और अब प्रेक्टिस हो रही है उसे काबू में रखने कि...


पहले मुंह चेक कर लेते है .. कहीं दांत तो तेज नहीं है...

पहले पीठ पर सवार हो लो..

कर मुंह बंद कर..

दम लगा के...

आ गया काबू में...

खोल मुंह...

है दम तो काट के दिखा..

हा हा नहीं काट पाया... अब चल मुगफली खा...  


आ गया मगरमच्छ मेरी काबू में....

19 comments:

  1. :-) bada maza aaya ladai dekh ke…. hume to pehle hi pata tha ki aap hi jeetoge :-)

    ReplyDelete
  2. अरे उसे मूंगफली मत खिलाना वर्ना उसमें भी तुम्हारे जितनी ताकत आ जायेगी उसके बाद वो तुम्हारे काबू में कैसे आएगा :)

    ReplyDelete
  3. मगरमच्छ की ये मज़ाल की पंगा ले सके...

    ReplyDelete
  4. मगरमच्छ को तो काबू में आना ही था... बहुत ही मज़ेदार रही ये लड़ाई...

    ReplyDelete
  5. मगरमच्छ तो बहुत प्यारा है!

    ReplyDelete
  6. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।
    मेरा शौक
    मेरे पोस्ट में आपका इंतजार है,
    आज रिश्ता सब का पैसे से

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्‍छी प्रस्‍तुति...

    ReplyDelete
  8. सुंदर चित्रों के साथ मगरमच्छ को पकड़ने का सुंदर अंदाज .....

    मेरी नई पोस्ट की चंद लाइनें पेश है....

    जहर इन्हीं का बोया है, प्रेम-भाव परिपाटी में
    घोल दिया बारूद इन्होने, हँसते गाते माटी में,
    मस्ती में बौराये नेता, चमचे लगे दलाली में
    रख छूरी जनता के,अफसर मस्ती के लाली में,

    पूरी रचना पढ़ने के लिए काव्यान्जलि मे click करे

    ReplyDelete
  9. बढि़या, चित्रकथा जैसी।
    मगर बिना अगर-मगर किए काबू में आ गया।

    ReplyDelete
  10. So good to see your bravery. Nice crocodile.

    ReplyDelete
  11. मगरमच्छ को तो काबू में आना ही था आखिर उसे Brave boy आदित्य जो ट्रेन कर रहा था....

    ReplyDelete
  12. नववर्ष 2013 की हार्दिक शुभकामनाएँ... आशा है नया वर्ष न्याय वर्ष नव युग के रूप में जाना जायेगा।

    ब्लॉग: गुलाबी कोंपलें - जाते रहना...

    ReplyDelete
  13. koi update nahi......

    ReplyDelete

कैसी लगी आपको आदि की बातें ? जरुर बतायें

Related Posts with Thumbnails