Thursday, April 29, 2010

बाबा नीचे आओ, आदि घोड़े पर बैठेगा!!


"बाबा कब आओगे? सुनो.. आप घोड़े पर ले जाओगे"...आदि प्यार से फोन पर बोला था... पता नहीं था की वो किसे घोड़ा बनाने वाला है.... अगले दिन (मंगलवार २० अप्रैल) शाम को आदि ने आवाज लगाईं..."बाबा नीचे आओ, आदि घोड़े पर बैठेगा!!" तो समझ आया.. की घोड़ा कौन बनाने वाला है..




घोड़ा तबडिक तबडिक चलता है...

चल मेरे घोड़े टिक टिक टिक..



26 comments:

  1. थोड़ा सा चाबुक लगाओ बबुआ.घोड़ा टेढ़ा चल रहा है. :)

    मजा आया घोड़ा और सवार...दोनो को देखकर.

    ReplyDelete
  2. अरे आदि ! घोड़े की नाक में लगाम लगावो और हाथ में चाबुक भी रखों न जाने कब घोडा बिदक जाये :)

    ReplyDelete
  3. आदि बेटा बहुत सहि जा रहे हो. और लगता है ताऊ के असली उतराधिकारी शिष्य तुम ही बनोगे.:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  4. हाथी घोड़ा पालकी,
    जय कन्हैयालाल की ।

    ReplyDelete
  5. अले वा हमको तो मजा आ गया तुम्हारे आनंदमयी चेहरे को देखकर

    ReplyDelete
  6. तबडिक तबडिक

    ReplyDelete
  7. घुड़सवार के पास लाएसेंस है कि‍ नहीं, अभी चेक करता हूँ:)

    ReplyDelete
  8. आदि को मजा आ रहा है ना !!

    ReplyDelete
  9. बेटा, लगाम और चाबुक कहां है?
    अगली बार जब भी इस घोडे पर बैठोगे तो ये दोनों चीजें पहले परख लेना?

    ReplyDelete
  10. अपने हाथ से बान्धिये घोडे का तंग चाहे आपके साथ हो लाखो लोग संग

    ReplyDelete
  11. वाह बेटा तुम्हारा घोडा तो पढा लिखा दिखता है, जोम बिना चाबुक के सीधा चल रहा है, ओर काठी की जरुरत भी नही. बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  12. indu puri goswamiApril 29, 2010 at 3:40 PM

    घोला भी पियाला ऑल छ्वाल भी. दोनों छो-छो छाल के होना.

    (buzz)

    ReplyDelete
  13. पद‍्म सिंहApril 29, 2010 at 3:40 PM

    वाऊ..... टिक टिक टिक टिक

    (buzz)

    ReplyDelete
  14. जबरदस्त घोडा है जरा जम के सवारी करना !

    ReplyDelete
  15. ...बहुत सुन्दर !!

    ReplyDelete
  16. चल घोड़े टिक टिक टिक :)

    ReplyDelete
  17. वाह आदि तो बहुत ही मजे ले रहा है

    ReplyDelete
  18. सुना है घोडा खड़े खड़े सोता है.. इस घोड़े कि क्या हालत है?? :)

    ReplyDelete
  19. "ये घोड़ा तो हंसने वाला है. :)"

    (पिकासा पर समीर भाई)

    ReplyDelete
  20. @समीर भाई:

    इतना प्यारा सवार हो तो घोड़ा खुश तो होगा ही न..

    जोधपुर में आदि को घोड़े पर बिठाया... एक चक्कर लगाने के बाद घोड़े वाला दीवाना हो गया.. और पैसे लेने से भी मना कर दिया....

    ReplyDelete
  21. काका आदि...अब नीचे आ जाओ..यह घोडा़ नही...पापा हैं...

    ReplyDelete
  22. मज़ेदार और मनभावन होने के कारण
    चर्चा मंच पर

    मेरा मन मुस्काया!

    शीर्षक के अंतर्गत
    इस पोस्ट की चर्चा की गई है!

    ReplyDelete
  23. मनभावन होने के कारण
    चर्चा मंच पर

    मेरा मन मुस्काया!

    शीर्षक के अंतर्गत
    इस पोस्ट की चर्चा की गई है!

    ReplyDelete
  24. --------------------------------------------------
    अब आप इस घुड़सवार को यहाँ भी देख सकते हैं!
    --------------------------------------------------

    ReplyDelete

कैसी लगी आपको आदि की बातें ? जरुर बतायें

Related Posts with Thumbnails