Friday, June 11, 2010

आदि को चोट लग गई थी...

गत शनिवार को हम एक पार्टी में गए.... वहाँ बहुत सारे बच्चे आये... सब मुझसे बड़े... हम सब खेल रहे थे...सब भाग रहे थे.. तेज तेज... मैं भी उनके पीछे भागा... पुरी ताकत से... पर ये क्या... मैं धड़ाम... गिर गया.... मुहँ के बल गिरा.... मम्मु बाबा उठाते तब तक तो मुहँ से खून बहने लगा.... मम्मु ने जल्दी से मुझे बर्फ खिलाई.. थोड़ी चीनी खाने को दी...  पता चला उपरी होठ पर एक बड़ा जख्म हुआ है... थोड़ी देर मम्मी की गोद में चिपका रहा... फिर ठीक हो गया....

ये देखो... होठ पर चोट लगी है....




ये मुस्कान अगले दिन की है....


अब तो चोट बिलकुल ठीक हो गई है... और इस शनिवार को हम घूमने जा रहे है... बेंग चवाक (Bueng Chawak)और सामचुक मार्केट (Samchuk Market)... वहाँ पर क्या है....ये तो आने पर ही बता पाऊँगा....

12 comments:

  1. ओह ! ख़ैर कोई बात नहीं ...
    गिरते हैं शहसवार ही मैदाने जंग में,
    वे क्या खाक गिरेंगे जो घुटनों के बल चलें.
    जल्दी ठीक हो जाएगी ये चोट भी और फिर बच्चों को एसी छोटी-मोटी चोटें तो लगती ही रहती हैं :)

    ReplyDelete
  2. अरे आदि तो0 चोट मे भी मुस्कुरा रहा है? वाह मेरे शेर । वैसे बच्चे चोट खा कर ही बडे होते हैं और चोट से बहुत कुछ सीखते हैं जल्दी से ठीक हो जाओ आशीर्वाद्

    ReplyDelete
  3. अरे मेरे बच्चे को चोट लग गई...ओह्ह! खूब दुखा होगा न!! देख कर खेला करो बेटा...चलो, अच्छा है ठीक हो गये...अब आ कर घूम कर फोटो दिखाना खूब हँसते हुए..

    ReplyDelete
  4. अरे, कुछ नहीं, चींटी मर गयी । आदित्य तो स्ट्रांग है ।

    ReplyDelete
  5. ओह ऎसी छोटी मोटी चोट तो लहती रहती है .कोई बात नही बहादुर

    ReplyDelete
  6. अरे आदि को चोट लग गयी...चलो ठीक तो हो गए न...बस काफी है...अच्छे से घूम के आओ और फिर हमें फोटू दिखाना :)

    ReplyDelete
  7. अरे ये हीरो तो शेर है ना........
    love ya

    ReplyDelete
  8. ये तो गड़बड़ बात है ! जहां तुम गिरे उस 'जगह' की पिटाई पापा जी ने की थी ना ?

    ReplyDelete
  9. ये तो गड़बड़ बात है ! जहां तुम गिरे उस 'जगह' की पिटाई पापा जी ने की थी ना ?

    ReplyDelete
  10. बचपन में ऐसी चोटें न लगे तो बचपन कहेगा ? बहादुर बच्चे इनकी परवाह नहीं करते !

    ये चोटें ही तो स्ट्रोंग बनाती है !

    ReplyDelete
  11. Thokar hi admi ko age bdne ki preda deti hai |Chahe vah bachapan ho chahe jvani ho ya prouda avstha |thokar se chot lagna to vagib hai par ye chote alag alag time par alag alag tarah se bharti hai|

    ReplyDelete
  12. Aadi is cool as always.....new blog design is cool too.......

    ReplyDelete

कैसी लगी आपको आदि की बातें ? जरुर बतायें

Related Posts with Thumbnails