Monday, December 7, 2009

वाह बाबु क्या ठाठ है..

सोफा, कुशन, काजु सब मिल जाये तो... फोटो देखिए और देखिए आची क्या कर रहा है.. कँहा देख रहा हूँ..



एक काजू और उठा लो...


हाथ डब्बे में और नजर.. अरे वो ही तो आपको सोचना है..


इतना मगन.. अरे ये काजू कहाँ चले गए.. लगता है हाथ गलत जगह पड़ गया..


अरे ये ताब ताब कहाँ से आ गई..


पता चला.. ये देखो इस तस्वीर में... बाबू ठाठ से टीवी देख रहा है..



पसंद आया...

13 comments:

  1. चलो यार तुम्हें देख -दिखा के कह सकते हैं कि कोई तो ब्लागर है .......जो इतने ठाट से ब्लागिंग कर रहा है....बिटवा सर्दी में ई ठाट जरूरी है ...खूब मस्ती करो...

    ReplyDelete
  2. ये मौज!! क्या बात है...तेरी ताई तो हमें काजू छूने नहीं देती और टीवी, जो वो देखे वो ही देखना अलाऊड है..ताई आयेगी न तुम्हारे पास..तो उसे न टीवी दिखायेंगे और न कुछ खाने को देंगे.बस, हम और हमारा बबुआ...ऐसे ही... :)

    ReplyDelete
  3. मौजां ही मौजां हीरो.....
    love ya

    ReplyDelete
  4. चित्रों में बहुत बढ़िया लग रहे हो जी!

    ReplyDelete
  5. वाह ! क्या मौज है !
    जब तक स्कूल के चक्कर में ना पड़े तब तक खूब मौज ले ले प्यारे बच्चू :)

    ReplyDelete
  6. आदि यार ! ये टी वी वाला फोटू नहीं लगाना चाहिए था इसे तो पहेली ही बना देता " काजू खाते हुए आदि क्या देख रहा है ? "

    ReplyDelete
  7. वाह जी आज तो आदित्य के ठाठ ही निराले है ।

    ReplyDelete
  8. अरे बाप रे । कुकर ।
    इसकी सीटी सुनकर तो मैं रोने लगता हूं ।

    ReplyDelete
  9. वाह बेटा, ऐश हो रही है.. :)

    ReplyDelete

कैसी लगी आपको आदि की बातें ? जरुर बतायें

Related Posts with Thumbnails