Wednesday, May 19, 2010

मस्तकलंदर

मस्तकलंदर.... बोल को यहाँ रखो... और एसे मारो.. मस्तकलंदर.. मस्तकलंदर


आजकल में बहुत सारी बातें केवल फेस बुक पर करता हूँ...

यहाँ क्लिक कीजिये.. मुझे लाईक कीजिये...और मुस्कराते रहिये..

12 comments:

  1. विडियो तो एरर दिखा रहा है, अब?

    ReplyDelete
  2. बहुत बढिया

    ReplyDelete
  3. वाह कया शॉट है। मस्‍त मस्‍त मस्‍त मस्‍त मस्‍त-कलंदर।

    ReplyDelete
  4. शानदार शाट आदित्य...सिक्सर लगाने का.

    ___________________
    'पाखी की दुनिया' में नेवी शिप आईएनएस राणा पर एक दिन

    ReplyDelete
  5. वहा के लोग क्या क्रिकेट खेलते है

    ReplyDelete
  6. ये हमारे क्रिकेटर तुमसे कुछ क्यों नहीं सीखते?
    एक बात बताओ गुरु ये फेसबुक कैसे काम करता है हम आज तक सीख नहीं पाए..........
    जय हिन्द, जय बुन्देलखण्ड

    ReplyDelete
  7. छुट्टियों के मजे उठा रहे हो.....

    ReplyDelete
  8. अबे ओरो के बच्चे तो दुसरो की खिडकियो के शीशे तोडते है, ओर तुम घर मै ही मस्त कलंदर बन गया, कोई शीशा तोडा कया एक आध शांट मार कर?:)

    ReplyDelete
  9. जीवन के मज़े ले लो दुनिया तुम्हारी है!

    ReplyDelete
  10. फेस बुक? अरे प्यारे मुंह पर तो वैसे ही तुम्हारे स्माइलिंग फेस है! :)

    ReplyDelete

कैसी लगी आपको आदि की बातें ? जरुर बतायें

Related Posts with Thumbnails