Sunday, July 25, 2010

ताकि आप याद कर सकें.....

शुकवार को छुट्टियों से पहले मेरी स्कुल का अंतिम दिन था.. अब स्कुल एक सप्ताह के लिए बंद है... २ अगस्त को खुलेगें...

शुक्रवार को सुबह मुड बदला बदला था.... मैं स्कुल के लिए जल्द ही तैयार हो गया.. और बाबा के बोला.. "बाबा मुझे ले लो.. मैं इकुल जायेगा..." वैसे हर रोज इसका उलटा होता था... मैं मम्मु की गोदी में चढ़ के विनती करता "मैं इकुल नहीं जाएगा"

बहुत आराम से स्कुल गया.. बस स्कुल पहुँच कर दो पल रोया.. :) दोपहर में जब मम्मी लेने आई तो घर आने का मन नहीं कर रहा था.. स्कुल में मुकुट पहन कर घूम रहा था..  मैडम में मेरे लिए एक सुन्दर मुकुट बनाया था.. और एक छड़ी भी.. और सभी पर छोटे छोटे हाथ बने हुए...

मुकुट बहुत प्यारा था.. और घर आकर उसे पहनकर ही खेलने लगा...





ये है देवी दीदी...

और मम्मी पापा के लिए मैं अपने हाथों के निशान भी लाया.... ये रेड रेड मेरे हाथों के निशान है....



और इसमें जो अंग्रेजी में लिखा है उसका हिंदी अनुवाद...

कभी कभी आप नाराज हो जाते होगें..

क्योंकि में बहुत छोटा हूं

और हमेशा अपने हाथों के निशान

दीवारों और फर्नीचर पर छोड़ देता हूं

लेकिन मैं हर रोज बड़ा हो रहा हूं

और जिस दिन बड़ा हो जाऊँगा,

ये छोटे छोटे निशान मिट जायेगें..

ये है मेरे हाथो  निशान..

ताकि आप याद कर सकें.  

की मेरे हाथो के निशान कैसे थे..

जब मैं बहुत छोटा था...

13 comments:

  1. स्कूल जाने लगने के बाद कवि हो गए हो :)

    ReplyDelete
  2. अब जब मुकुट आदि के सिर पर सजाया गया है,
    तो अच्छा तो लगना ही है!
    --
    ज्यों-ज्यों बड़े होना -
    सफलता के नए-नए मुकुट सजाते रहना!
    --
    शुभकामनाएँ ही शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  3. बड़ा सुन्दर मुकुट बना है आदि का। वाह।

    ReplyDelete
  4. वाह मुकुट तो अच्छा है ही . छोटे-छोटे हाथों की महिमा तो उससे भी बड़ी है. चलो अच्छा है छुट्टियों का मज़ा लो लेकिन हफ़्ते बाद स्कूल जाने में कोई आना कानी मत कररना...वरना बच्चों की इस बीच आदत बिगड़ जाती है.

    ReplyDelete
  5. अरे भाई सुन्दर से मुकुट में ये सुन्दर सा छोरा कौन है :)

    ReplyDelete
  6. अरे आदि यार बहुत प्यारा प्यारा लग रहा है, चल एक सप्ताह की छुट्टियो मै तु हमारे पास आ जा..... सच्ची मै दिल लग जाये गा मेरा तेरे साथ... खुब ऊधम मचायेगे, रोज नहाने जायेगे

    ReplyDelete
  7. बच्चे हंसते-खेलते कितने अच्छे लगते हैं।

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  9. आदि के निशान अमिट है .

    ReplyDelete
  10. मुकुट तो बहुत प्यारा है . सुन्दर

    ReplyDelete
  11. वाह प्यारे बाबु ...

    ReplyDelete

कैसी लगी आपको आदि की बातें ? जरुर बतायें

Related Posts with Thumbnails