Saturday, July 31, 2010

पहला पाठ

अभी तक तो लेपटोप पर जू जू, एनिमल्स और पोएम्स देखता था.... अभी कुछ दिनों से बाबा मुझे व्हाईट व्हाईट (MS word का खाली पेज) दे देते है.. और में मजे से की बोर्ड ठोकता हूँ..  कल हमने लेपटोप पर एक बड़ा की-बोर्ड (External) लगा दिया और मेरी उंगली पकड़ के ये टाइप किया.....
ABCDEFGHIJKLMNOPQRSTUVWXYZ

12334…….56789   10  10121.2.2.2.
वैसे तो लेपटोप पहले भी चलाया है... पर ओपचारिक रूप से ये है मेरा पहला पाठ...


थर्मामीटर..
मेरी तबियत अब बहुत ठीक है... बुखार भी ९९ के आस पास ही हे... शरारतों का सिलसिला भी शुरू हो गया है....
कुछ फोटो..


मेरी नई कुर्सी..

मुस्कान लौट आई... चहरे के लाल नीशान तेज बुखार की देन

22 comments:

  1. आदि बेटा!
    पहले सेहत फिर पढ़ाई!

    ReplyDelete
  2. कोई बात नहीं बुखार भाग जाएगा.
    शाबाश अच्छे से पढ़ रहो हो तुम आदि.

    ReplyDelete
  3. पहल् स्वास्त्य तब पढ़ाई।

    ReplyDelete
  4. हम तो बस उस दिन का इंतजार कर रहे है जब आदि यहाँ अपने आप पोस्ट लिखा करेगा :)

    ReplyDelete
  5. Shastri Ji, Praveen bhai,

    Aadi ki padhai abhi shuru nahi hue... bas jo vo khelta he use kuch creative form men badal dete he.. and he enjoy it..

    ReplyDelete
  6. अरे हीरो को बुखार आ गया.......अभी पिटाई करते हैं बुखार की , ऐसे कैसे आ गया नालायक ......हीरो के पास......बस ऐसे ही मुस्कराते रहो......बुखार छूमंतर हो जायेगा.....
    love ya

    ReplyDelete
  7. बेटा अभी तो तुम्हारी मुस्कराहट में भी बुखार का असर झलक रहा है ,इसलिए पहले दवाई बाद में पढाई !

    ReplyDelete
  8. मेरे बच्चे, थोड़ा और आराम कर ले<<दूध अंडा खा ले..पढ़ाई तो हो जायेगी बाद में.

    ReplyDelete
  9. आदि बेटा तुझे हंसता देखकर बहुत शुकुन मिला. पढाई का सिलसिला शुरु होने लगा है यह एक अच्छी बात है. जल्दी से पुर्णतया दुरुस्त होजावो.

    रामराम

    ReplyDelete
  10. आदि बेटा, समीर अंकल की बात मत मानना. ये तुझे बिगाडने के चक्कर में हैं.:)

    दूध में अंडा कभी मत पीना. तू तो सिर्फ़ दूध ही पीते रहना अंडा नही. बस दूध अच्छे से पीना...ताऊ तुझे भी पहलवान बना देगा.

    बोलो शाकाहार की जय!!!

    रामराम.

    ReplyDelete
  11. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  12. जल्दी से स्वस्थ होकर मौज-मस्ती करो आदि...

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर पोस्ट!
    --
    इसकी चर्चा यहाँ भी है-
    http://mayankkhatima.blogspot.com/2010/07/9.html

    ReplyDelete
  14. आदि बेटे अब हुयी ना बात, अबे यह कमजोरी भी एक दो दिन मै भाग जायेगी, दादा दाई अभी यही है या वापिस भारत गये? उन्हे मेरी नमस्ते बोलना, अब मै भी ठीक हो गया हुं, जब तुझे समीर अंकल बता दे कि ....<<दूध अंडा खा ले..तो हमे भी बताना इस दुध को केसे खाये:) आज तो मामी पापा भी बहुत खुश होगे आदि बाबा जो ठीक हो गये है

    ReplyDelete

  15. पढो बेटा आदि, आखिर तुम्हारे पिताजी कब तक तुम्हारे बारे में लिखते रहेंगे?

    …………..
    प्रेतों के बीच घिरी अकेली लड़की।
    साइंस ब्लॉगिंग पर 5 दिवसीय कार्यशाला।

    ReplyDelete
  16. यार आदि तू हँसता रहा कर.. खामख्वाह टेंशन हो जाती है..
    सब अच्छा लिखा है.. चार लाइनों वाली कोपी मंगवा लेना बाबा से और उसमे अक्षर जमा जमा के लिखना..

    ReplyDelete
  17. बुखार चला गया...निशान भी चले जायेंगे. पहला पाठ सही सीखा

    ReplyDelete
  18. आदि स्वस्थ हो गया , जानकार खुसी हुई .

    ReplyDelete
  19. आजकल पापा तब काम करते हैं जब मैं सो रहा होता हूं। वरना मैं तो बीच बीच में हाथ मारता हूं। पापा को काम करने ही नहीं देता।

    ReplyDelete

कैसी लगी आपको आदि की बातें ? जरुर बतायें

Related Posts with Thumbnails