Sunday, June 12, 2011

लीची खाओगे....

लीची भी मुझे पसंद है... और इस मौसम में खूब मिल रही है....  और ये में खूद खा सकता हूँ...

लीची मुहं में... और नजरें... टीवी पर... विनी द पूह... 

पाँव की पट्टी.... चिंता न करना शौक से बाँधी है...  बस जरा ही खरोच लगी थी...





आपको भी लीची खानी है.. तो प्लेट में से ले सकते हो :)

7 comments:

  1. हमने भी कल ही खाई है,
    अब आप खाओ

    ReplyDelete
  2. यह भी कोई पूछने की बात है?

    ReplyDelete
  3. मुझे भी पसंद है तभी तो इसकी खुश्बू से भ्क़ागी आयी मेरे लिये भी बचा लेना। आशीर्वाद।

    ReplyDelete
  4. आदित्य तुम मेरे ब्लांग मे नही आये न..नही तो में तुम्हें अपने घर के पेड़ की लीची खिलाती….लीची ज्यादा नहीं खाना, पेट खराब होजायेगा….समझे ?...

    ReplyDelete
  5. Wah ! Lekin dhyaan rakhna kabhi-kabhi ismein keedey bhi nikalte hain.

    ReplyDelete
  6. सच में..एक जमाना बीता लीची खाये...अबकी आयें तो खिलवाना बेटू!!

    ReplyDelete

कैसी लगी आपको आदि की बातें ? जरुर बतायें

Related Posts with Thumbnails