Tuesday, May 26, 2009

मेरा ओफिस, मेरी चेयर

जन्म दिन के उपहारों की श्रॄंख्ला में आज बता हूँ एक खास तोहफे के बारें में.. ये शानदार चेयर कम टेबल मुझे भेंट की है मम्मी के सहकर्मीओं ने.. ओफिस में सभी ने आपस में चर्चा कर तय किया की आदि को जन्म दिन पर तिपहिया साईकिल देगें.. पर अचानक पता चला कि अनामिका मासी भी साईकिल के आई है... मैं दो-दो साईकिल का क्या करुंगा? ये सोच मम्मी ने अनिका मासी को फोन किया तो पता चला कि वो भी मार्केट से साईकिल ले आई है... मम्मी ने कहा कोई बात नहीं अब आदि दो साईकिल चलायेगा.. पर ये बात अनिका मासी को नहीं जमी और वो फिर से मार्केट जा मेरे लिये ये चेयर ले आई.. मासी हो तो ऐसी!!! है न..

अब बताओ मैं इस चेयर का क्या करता हूँ.. कहते तो इसे डाईनिंग टेबल है पर मेरे लिये ये एक और काम करती है.. देखो इस पर फोन लगा कर इसे में अपनी ऑफिस भी बना लेता हूँ..  देखो सभी एक फोन की दुरी पर है..


मुझे तो बैठने का  मजा आया ही पर मम्मी को काफी आराम हो गया इससे.. सीट बेल्ट लगा कर बैठा देती है और टेबल पर खिलौने रख देती है.. मैं खेलता रहता हूँ और मम्मी खाना खिला देती है.. मेरे पीछे पीछे नहीं भागना पड़ता अब मम्मी को.. ये कुर्सी मुझसे ज्यादा मम्मी को पसंद आई है..


मेरा क्या है, मुझे तो बस चने दे दो.. मैं तो उसी से खेल सकता हूँ...

अरे चेयर का बताते हुए एक और गिफ्ट भी तो आपने देख लिया.. फोन.. जो मेरी टेबल पर रखा है.. ये परी दीदी लाई है...ये हेलो बोलता है और भी कई बातें करता है...

 थेंक्यु टीम नेल्सन!!
थेंक्यु अनिका मासी!!
थेंक्यु परी दीदी!!
आपको कैसे लगे मेरे गिफ्ट और ये पोस्ट?

(सभी चित्र 5 से 8 मई के हैं)

13 comments:

  1. मम्मी से कहो कि मुझे भी मासी से कह कर ऐसी चेयर दिलवा दें..मैं उस पर लैपटॉप रख लूँगा और तेरी ताई मुझे बांध कर बाजार घूमेगी खुश खुश!!

    ReplyDelete
  2. अरे वाह अभी से ही ऑफिस... ! वेरी गुड..

    गिफ्ट तो सब के सब मजेदार है

    ReplyDelete
  3. अभी से कुर्सी मिल गयी...अफसर बन गए आप तो जनाब...वाह.
    नीरज

    ReplyDelete
  4. कुर्सी के चक्कर में मत पड़ना छोटूमल...
    हां, चने जैसी चीज़ों में भी खेल ढूंढ लेने वाली सिफ़त ताउम्र बनाए रखना:)

    ReplyDelete
  5. भाई आदि तू कहां आफ़िस के चक्कर मे पड गया? तू तो खेल लिया कर इनसे.. आफ़िस वाफ़िस की जरुरत नही है, बडा होकर ताऊ की क्लास मे आ जाना. तेरे को लठ्ठ चलाना सिखा देगा..फ़िर सारे के सारे आफ़िस तेरे..चिंता क्युं करता है अभी से आफ़िस की यार? ताऊ बैठा है ना अभी.

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. बेटूलाल कि ऐश हो रही है.. :)

    ReplyDelete
  7. पलटू बाबा क्या हाल है बेटा? अरे मै रोज तुम्हारी शरार पढता हूं, अब बेटा चलता फ़िरा आंफ़िस मिल गया है, खुब दोडो इधर उधर ओर ममी पापा के पांव बचा कर...
    बहुत बहुत प्यार

    ReplyDelete
  8. अदि बाबा....आज आपको कुर्सी मिलने पर मुबारक देते जाएँ वैसे आपके प्यारे प्यारे कारनामे यूट्यूब पर देख कर मोहित होते रहते हैं.. :)

    ReplyDelete
  9. [img]http://www.smileyxtra.co.uk/images/smxtra.png[/img]

    जियो मेरे छोटू !!!

    ReplyDelete
  10. क्या हुकुम मेरे आका . तुम तो साहिब बन गया

    ReplyDelete
  11. साहब की कुर्सी मुबारक़ हो!

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया है ! अरे भई एक ब्लोगर के लिए ऑफिस व उसमे मेज कुर्सी तो होनी ही चाहिए ! और अपना आदि तो रोज पोस्ट ठेलने वाला व्यस्त ब्लोगर जो ठहरा !

    ReplyDelete

कैसी लगी आपको आदि की बातें ? जरुर बतायें

Related Posts with Thumbnails