Friday, June 5, 2009

आदि कहाँ है?

आदि कहाँ है? वैसे तो ये कोई मुश्किल सवाल नहीं है.. पर आपको पता है ये बात मुझे भी अच्छे से पता है.. ये मैं कब सीखा ठीक से याद नहीं पर पिछले ३-४ महीनों से ये जबाब दे देता हूँ.. दीवार पर लगी अपनी तस्विर देख कर भी हूँ हूँ कर खुद को बताता हूँ और अगर कोई फोन पर भी पुछे "आदि कहाँ है?" तो मेरे पास जबाब होता है... देखिये ये १५ सेकण्ड का विडियो.... क्या कहा केवल १५ सेकण्ड? अरे आदि को पहचानने में इससे ज्यादा समय थोड़े ही चाहिये..




मुमेंट ऑफ द डे
वैसे तो मैं काफी दिनों से चलना सीख गया था.. पर कुछ-कुछ कदम और सहारा लेते हुये.. कल और परसों का दिन कुछ खास था.. क्योंकि मैं घुटनों पर चलने के बजाए पैरों पर चलना पसंद करने लगा हूँ... और अब आप मुझे घर में आराम से  घुमते देख सकते है.. हुर्रे!!!!! 

10 comments:

  1. आदि कहाँ है :) वाह आदि तो यहाँ है .चलने लगे हो तो चलते चलो ...बहुत अच्छा लगा पढ़ कर ..

    ReplyDelete
  2. आदि कहां है, वह तो पूरे ब्लॉग जगत में घूम रह है। पकड के रखो इसे।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    ReplyDelete
  3. आदि का इशारा बहुत बढिया लगा ।वहीं तो है आदि।

    ReplyDelete
  4. बहुत गजब.

    खुद को पहचानने के लिए न जाने कितने साधु-महात्मा बन जाते है....हिमालय वगैरह के लिए निकल लेते हैं. काश कि आदि से कुछ सीखते ऐसे लोग...

    ReplyDelete
  5. वाह यार आदि..अबकी अगर तुमसे पूछे कि ताऊ कहां है? तो भी शायद ऐसे ही इशारे करोगे?:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. लो भैय्या हम अपने पैरो पे हो गए खड़े .ओर मिला ली है ताल.....

    ReplyDelete
  7. अबे मेरा पलटू कहा है, यह बता दो तो माने... बहुत मासूम लगा बेटा तू, बहुत प्यारा.
    बहुत सारा प्यार

    ReplyDelete
  8. तुम जल्द ही दौड़ोगे, और जिंदगी कि रेस में सबसे आगे रहोगे.. ढ़ेर सारा आशीर्वाद और दुलार आदि बेटे को.. :)

    ReplyDelete
  9. Vaah vaah!! khud ko pahchan gaye..bahut khoob..ab to doudte dekhenge tumhe agale video me. :)

    ReplyDelete

कैसी लगी आपको आदि की बातें ? जरुर बतायें

Related Posts with Thumbnails