Saturday, February 28, 2009

घुटना चाल

लग रहा था कि मैं घुटने से चलूगां ही नहीं सीधे चलना सीखुगां.. चलना सीखाना शुरु भी कर दिया..  लेकिन इससे पहले मैं कि मैं चलू मैनें घुटने से चलना (crawl) भी सीख लिया.. अभी कुछ दिन पहले ही.. अब घर का हर कोना मेरी पहुँच  में है..

11 comments:

  1. ये पंक्तियाँ याद आ गयीं..."घुटरुन चलत रेनू तनु मंडित...." वाह....हमें तो आपके दौड़ने का इंतज़ार है...
    नीरज

    ReplyDelete
  2. घुमाने ले जाओगे???

    हा भई क्यों नही ले जाएँगे.. हम तो तैयार है...

    ReplyDelete
  3. जल्द ही तुम अपने पैरों पर चलने लगो। मेरी शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  4. "are wah wah....to is yello boll ne khub chakaya aadi ko hai na....koi baat nahi hum dono mil kr boll ko chkayenege ab ki baar hai na.."

    Love ya

    ReplyDelete
  5. दूर हटो ए दुनियावालो .....

    ReplyDelete
  6. ओये पल्टू,
    घुटना चाल के साथ साथ पेट चल भी चल लेता है रे तू तो.

    ReplyDelete
  7. वाह !! बहुत सुंदर ।

    ReplyDelete
  8. बहुत हँसोगे जब बड़े हो जाओगे यह विडियो देख देख कर :)

    ---
    चाँद, बादल और शाम
    गुलाबी कोंपलें

    ReplyDelete
  9. अरे पलटू यार यह काम थोडा देरी से शुरु किया , लेकिन बाबा किया तो सही ना, अब तु पांव के नीचे ना आ जाये ममी पापा कॊ ज्यादा ध्यान देना पडेगा,
    चल मेरे घोडे टक टक टक....
    शाबश बेटे बहुत सा प्यार

    ReplyDelete
  10. :) वाह बहुत बढ़िया

    ReplyDelete

कैसी लगी आपको आदि की बातें ? जरुर बतायें

Related Posts with Thumbnails