Wednesday, July 15, 2009

कानिया मानिया कुर्र.....

पता है दादी दिल्ली आई थी.. हाँ पिछले बुधवार (८ जुलाई)  को पापा बहुत दिनों बाद दिल्ली आये और उसी दिन मम्मी को भी बाहर जाना था.. पापा बड़ी असमंझस कि स्थिति में थे.. कुछ नहीं सुझा तो तुरंत दादी को फोन लगाया और  और दादी शाम की ट्रेन में बैठ गुरुवार कि सुबह दिल्ली आ गई.. है न मेरी दादी प्यारी..
धीरे धीरे दादी से दोस्ती भी हो गई और कल शाम दादी के वापस जाने से पहले उनके साथ खुब मस्ती की..

दादी के साथ कानिया मानिया कुर्र वाला खेल खेला...दादी मेरे कान के पास आकर जोर से कुर्रर किया और मैने इस गुदगिदी का खुब मजा लिया.. और तुरंत दुसरा कान आगे कर दिया..






बडा़ मजा आया दादी के साथ खेल कर.. इसके बाद एक और खेल भी खेला.. वो बताऊगां कल..

मजा आया.. गुदगुदी हुई!!

23 comments:

  1. ओये हीरो..............दादी के साथ सच मे बहुत मजा आया.....काश हम भी आदि की उम्र के हो जाएँ है न....

    love ya

    ReplyDelete
  2. हमें ललचा ललचाकर खुद इतने मजे करते हो !!

    ReplyDelete
  3. aare waah aadi aur dadi dono milke khub maze kar rahe hai,bahut khub,vaise dadi ji ki aachanl chav mein aap lag bahut pyare rahe ho.aapki dadi ji ko hamara pranam kahe.

    ReplyDelete
  4. खुब मस्ती करते रहो मेरे दोस्त

    आभार/शुभकामनाओ सहित

    हे प्रभु यह तेरापन्थ

    मुम्बई टाईगर

    ReplyDelete
  5. दादी होती ही ऐसी है...मजेदार...प्यारी सी...
    नीरज

    ReplyDelete
  6. हम चचेरे भाइयों सहित सात भाई हैं , बचपन में अम्मा की गोद में बैठने को लेकर बहुत झगड़ते थे !

    ReplyDelete
  7. क्या जोड़ी है आदि और दादी की।
    बहुत खूब भई.. ददी को ऐसे और बहुत से खेल आते हैं, जब तक यहां रहे सब सीख लो बाद में मम्मी आये तब उन्हे भी सिखा देना।
    :)

    ReplyDelete
  8. वाह बेटे..ऐश करो..पर दादीजी को हमारी प्रणाम तो कह देना. इत्ता सा काम तो कर ही देगा तू?

    रामराम.

    ReplyDelete
  9. वाह वाह इतना सारा प्यार मिला, बड़े ख़ुशक़िस्मत हो।

    ReplyDelete
  10. मस्ती के दिन हैं, मस्ती तो करोगे ही. लेकिन बेवकूफ भी खूब बनाते हो. तुमने कहा की दूसरा कान भी आगे कर दिया. सरासर गलत. फोटो झूट बोलेगा
    क्या? दादी से मिलवाये इसके लिए एक आइसक्रीम हमारी तरफ से.

    ReplyDelete
  11. सुब्रमनीयम अंकल..
    ये सरासर पापा कि गल्ति है.. एक तरफ से ही तस्विरें ले रहे थे.. अगर थोड़ा घुमते तभी तो दुसरी तरफ से अच्छी फोटो आती.. अच्छा किया आपने पकड़ लिया..

    ReplyDelete
  12. दादियां नानियां भगवान बनाते ही इसी काम के लिये हैं - कानिया मानिया कुर्र के लिये! :)

    ReplyDelete
  13. khoob maze kar rahe ho beta ji...mann bhi nani ke saath khel (chiriya udi.....) karta hai...

    ReplyDelete
  14. वाह....
    हम भी अपने पौत्र-पौत्री के साथ
    ऐसे ही खेलते हैं।
    क्या तुम
    हमारे साथ भी खेलोगे आदि बेटा!

    ReplyDelete
  15. वाह, दादी से घुलमि‍लकर खेल रहा है:)

    ReplyDelete
  16. वाह!! दादी के साथ खेला जा रहा है, मजे हैं भई.

    दादी को हमारा भी चरण स्पर्श कह देना.

    ReplyDelete
  17. आदि दादी के साथ तो खेलने व बड़े होने पर कहानियां सुनने में बड़ा मजा आता है आज तुमने तो अपनी दादी दिखा हमें भी अपनी की याद ताजा करा दी | दादी जी को हमारा भी प्रणाम कहना |

    ReplyDelete
  18. अरे आदि ये खेल तो मै भी खेलती हूँ अरे पहले क्यों नही बताया तो आज कल खूब मज़े ले रहे हो दादी के साथ आशीर्वाद्

    ReplyDelete
  19. दादियाँ होती ही इस लिए अपने पोतो पोतियों से खेलने के लिए . मेरी दादी कुमाऊ से थी एक गीत गाती थी जिसमे घघुती बसुती का जिक्र होता था

    ReplyDelete
  20. आदि बेटा दादी का दिल भी लग गया तेरे साथ, ओर अब दोनो खुब खेलो, दादी दादा ऎसे हि होते है बेटा.
    बहुत सा प्यार तुम्हे ओर दादी को प्रणाम

    ReplyDelete

कैसी लगी आपको आदि की बातें ? जरुर बतायें

Related Posts with Thumbnails